Essay on Indian Constitution in Hindi: भारतीय सर्वोच्च विधान का मूर्त रूप ही संविधान है। जबकि इसे लागू 26 जनवरी 1950 के दिन किया गया था। इस संविधान में भारतीय नागरिकों से सम्बंधित सभी कानूनों का संग्रह मिलता है। अतः इसे साधारणतयः “कानून की किताब” से सम्बोधित किया जाता है। इसमें भारत देश में स्थापित लोकतंत्रात्मक गणराज्य के बारे में बताया गया है।

Essay on Indian Constitution in Hindi: भारतीय संविधान पर निबंध

इसमें सम्प्रभुता और धर्म निरपेक्षता का वर्णन ही दूसरे संविधानों से अलग करती है। भारत के संविधान के निर्माण करने में विभिन्न संविधानों के अध्ययन किया गया है, जिसके कारण यह पूरे विश्व का सबसे लम्बा एवं लिखित संविधान है।

Essay on Indian Constitution in Hindi: भारतीय संविधान पर निबंध

हमारा देश एक स्वतंत्र गणराज्य है जिसका अपने आप में ही अनूठा है। अगर संविधान निर्माण की भारत करें तो इसे बनाने के लिए दिसंबर 1946 को संविधान सभा का गढन हुआ। इस संविधान निर्माण में कई महत्वपूर्ण समितियों का गढन किया गया। संविधान निर्माण में प्रारूप समिति को इसके रूपरेखा बनाने की जिम्मेदारी सौंपी गई। इस प्रारूप समिति की अगुआई समिति अध्यक्ष डॉ भीमराव आंबेडकर ने की।

भारतीय संविधान निर्माण

भारत के संविधान को मूर्त देने में कई विद्वानों ने अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया। डॉ भीमराव आंबेडकर को भारतीय संविधान के निर्माता के रूप में जाना जाता है।

  • शांति निकेतन के कलाकारों ने नन्द लाल बोस के निर्देशन में संविधान की सजावट का कार्य किया।
  • 1934 में ही श्री एम एन राव ने भारत के संविधान की संकल्पना को प्रस्तुत किया था।
  • भारत की आधुनिक निर्वाचन प्रणाली के निर्माण का श्रेय थॉमस हेयर को दिया जाता है।

संविधान सभा के सदस्य (Essay on Indian Constitution in Hindi)

संविधान सभा के प्रमुख सदस्य थे।

  • डॉ भीमराव आंबेडकर
  • पंडित जवाहरलाल नेहरू
  • डॉ राजेंद्र प्रसाद
  • सरदार वलभ भाई पटेल
  • मौलाना अबुल कलम आज़ाद

भारतीय संविधान का इतिहास

  • भारतीय संविधान के निर्माण से सम्बंधित मंजूरी 26 नवंबर 1949 को दी है थी।
  • जबकि इसे लागू 26 जनवरी 1950 के दिन किया गया था।
  • संविधान निर्माण की पूर्ण प्रक्रिया में 2 वर्ष, 11 महीने, और 18 दिन का बहुमूल्य वक्त लग गया।
  • संविधान निर्माण के वक्त 395 अनुच्छेद 08 अनुसूचियाँ, तथा 22 भाग सम्मिलित थे।
  • संविधान का निर्माण में डॉ भाषाओं ( हिंदी, और अंग्रेजी) में किया गया।
  • भारतीय संविधान को तैयार करने के लिए 19 जुलाई 1946 को संविधान सभा का गढन हुआ।

मौलिक अधिकार (Essay on Indian Constitution in Hindi)

संविधान निर्माण के वक्त कुल 7 मौलिक अधिकारों को शामिल किया गया था।

  1. समानता का मौलिक अधिकार
  2. स्वतंत्रता का मौलिक अधिकार
  3. शोषण के विरुद्ध मौलिक अधिकार
  4. धार्मिक स्वतंत्रता का मौलिक अधिकार
  5. संस्कृति और शिक्षा का मौलिक अधिकार
  6. संवैधानिक उपचारों का अधिकार
  7. संपत्ति का मौलिक अधिकार

जब 44 वां संविधान संशोधन हुआ तब सातवें अधिकार (संपत्ति का मौलिक अधिकार) को मौलिक अधिकार की श्रेणी से अलग कर दिया गया।

निष्कर्ष

भारतीय संविधान कई मायनों में बेहतर होने का कारण इसका न ही अधिक लचीला और न ही अधिक कठोर स्वाभाव का होना है। इस संविधान का निर्माण कई देशों के संविधानों के गहन अध्ययन से हुआ है। अतः इन सभी कारणों से भारतीय संविधान में बहुत ही कम खामियां हैं। अतः हर व्यक्ति के मन में कभी न कभी ख्याल आता है की वह भारत जैसे महान देश का नागरिक क्यों नहीं है।


Home » Essay on Indian Constitution in Hindi: भारतीय संविधान पर निबंध

Essay on Indian Constitution in Hindi: भारतीय संविधान पर निबंध