Table of Contents


Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi: जहां स्वच्छता होती है, वहीँ पर ईश्वर निवास करते हैं। अतः हमें स्वच्छता की ओर ध्यान देना चाहिए। 2 अक्टूबर 2014 को स्वच्छ भारत अभियान या स्वच्छ भारत मिशन की शुरुआत भारत के प्रधानमन्त्री श्री नरेन्द्र मोदी ने की थी।

देश के राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी का ‘क्लीन इंडिया’ का सपना स्वच्छ भारत अभियान के माध्यम से पूरा किया जाएगा। देशवासियों से अपने आस पास की स्वच्छता बनाने का सन्देश गाँधी जी ने दिया था।

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi / Swachh Bharat Abhiyan Nibandh / Swachh Bharat Abhiyan in Hindi / Swachh Bharat Abhiyan Essay Hindi


इस देशव्यापी राष्ट्रीय स्तर के अभियान का उद्देश्य गली – गली में साफ़ – सफाई को बढ़ावा देना और सार्वजानिक शौचालयों का निर्माण कर खुले में शौच पर रोक लगाना है।

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi

(1000 शब्द)

देश में विद्यालयों में हर साल 2 अक्टूबर को कार्यक्रम रखे जाते हैं जिसमे साफ़ सफाई के फायदे बच्चों को बताये जाते हैं। अपने आस पास की स्वच्छता का ध्यान हम सभी को मिलजुल कर रखना चाहिए। 11 करोड़ 11 लाख शौचालयों को स्वच्छ भारत मिशन का लक्ष्य 2019 तक बनवा कर देना है। सरकार ने साफ शहरों की सूची भी इस अभियान को सफल बनाने के लिए जारी करने की घोषणा की थी। स्वच्छता में भगवान् का वास होता है अतः हम सभी को मिलजुल कर यह कोशिश करना चाहिए कि हम अपने मोहल्ले गली तथा गाँव की सफाई में अपना पूरा योगदान दें।

प्रस्तावना (Swach Bharat Abhiyan Nibandh)

भारत देश अपने वैभव और संस्कृति के लिए सोने की चिड़िया कहा जाता था। हमारे देश पर कई बाहरी शक्तियों ने राज किया, जिससे भारत देश की आर्थिक स्थिति खराब हो गई।

हमारे देश में स्वच्छता पर बहुत कम ध्यान दिया जाता है। देश का कोई भी बड़ा राज्य हो या शहर, गांव हो या गली – वहां आपको कूड़ा करकट मिल ही जायेगा।

हमारे देश के विकास को हानि पहुंचाने में एक मुख्य कारण गंदगी है क्योंकि हमारे देश में इसके कारण लोग आना पसंद नहीं करते और ना ही ख्याति मिलती है।

लोग आज भी गाँवो में शौच करने बाहर ही जाते हैं, जो की गाँवो में गंदगी का एक कारण है और शहरों में शौचालय तो है लेकिन वहां पर अन्य गंदगी बहुत ज्यादा है, जैसे :- अपशिष्ट कूड़ा-करकट, गंदे नाले, घरेलू अपशिष्ट, फैक्ट्रियों से निकला अपशिष्ट।

स्वच्छ भारत अभियान का परिचय (Swach Bharat Abhiyan Nibandh)

हमारे देश को स्वच्छ बनाने के लिए भारत सरकार ने एक नई योजना निकाली है, जिसका नाम ‘स्वच्छ भारत अभियान’ रखा गया है। इस अभियान के तहत सभी देशवासियों को इसमें शामिल होने के लिए कहा गया है।

यह अभियान आधिकारिक रूप से 1999 से चला रहा है पहले इसका नाम ग्रामीण स्वच्छता अभियान था, लेकिन 1 अप्रैल 2012 को प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने इस योजना में बदलाव करते हुए इस योजना का नाम निर्मल भारत अभियान रख दिया और बाद में सरकार ने इसका पुनर्गठन करते हुए इसका नाम पूर्ण स्वच्छता अभियान कर दिया था। 24 सितंबर 2014 को 24 सितंबर 2014 को स्वच्छ भारत अभियान को देश के केंद्रीय मंत्रिमंडल के द्वारा इसे स्वीकार किया गया।

स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत (Swach Bharat Abhiyan In Hindi)

महात्मा गाँधी जी की 145 वीं जयंती के अवसर पर 2 अक्टूबर 2014 स्वच्छ भारत अभियान का उद्घाटन दिल्ली के राजघाट से माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने किया। उन्होंने राजपथ पर जनसमूहों को संबोधित करते हुए राष्ट्रवादियों से स्वच्छ भारत अभियान में भाग लेने और इसे सफल बनाने को कहा। साफ-सफाई के संदर्भ में यह सबसे बड़ा अभियान है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता फैलाने के लिए दिल्ली कि वाल्मीकि बस्ती में सड़कों पर झाड़ू लगाकर देश के लोगों में जागरुकता फैलाई। 

स्वच्छ भारत  और महात्मा गाँधी जी का सपना (Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi)

महात्मा गाँधी जी ने भारत को एक निर्मल और स्वच्छ देश बनाने का सपना देखा था। अपने सपने के संदर्भ में गाँधी जी ने कहा था कि स्वच्छता स्वतंत्रता से भी ज्यादा जरूरी है क्योंकि स्वच्छता ही स्वस्थ और शांतिपूर्ण जीवन का एक अनिवार्य भाग है।

महात्मा गाँधी जी अपने समय में देश की गरीबी और गंदगी से अच्छी तरह अवगत थे इसीलिए उन्होंने अपने सपने को पूरा करने के लिए बहुत से प्रयास किये लेकिन वो उसमें सफल न हो सके। लेकिन दुर्भाग्य तो यह है कि भारत आजादी के 72 साल बाद भी इन दोनों लक्ष्यों से काफी पीछे है। अगर आँकड़ो की बात करें तो अब भी सभी लोगों के घरों में शौचालय नहीं है। इस अभियान को सफल बनाने के लिये सरकार ने सभी लोगों से निवेदन किया कि वो अपने आसपास और दूसरी जगहों पर साल में सिर्फ 100 घंटे सफाई के लिये दें।

स्वच्छ भारत अभियान के उद्देश्य (Swach Bharat Abhiyan In Hindi)

स्वच्छ भारत अभियान एक राष्ट्रीय स्तर का अभियान है। प्रधानमंत्री मोदी जी ने स्वच्छ भारत अभियान के मुख्य उद्देश्य के लक्ष्य को पाने के लिए 5 साल की योजना बनाई है।

जिसके अनुसार हमारे पूरे देश को स्वच्छ करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

(1) देश का कोना-कोना साफ सुथरा हो, इस अभियान का यह प्रथम उद्देश्य है।
(2) बाहर खुले में शौच करने से लोगों को रोका जाए। जिसके कारण हर साल हजारों बच्चों की मृत्यु हो जाती है।
(3) हर शहर और ग्रामीण इलाकों के घरों में शौचालय का निर्माण करवाया जाए।
साथ ही शहर और गांव की हर सड़क – गली – मोहल्ले साफ-सुथरे हो।
(4) कम से कम एक कचरा पात्र हर एक गली में आवश्यक रूप से लगाया जाए।
(5) लगभग 11 करोड़ 11 लाख सामूहिक और व्यक्तिगत शौचालयों का निर्माण जिसमें 1 लाख 34 हजार करोड रुपए खर्च होंगे।
(6) उचित स्वच्छता का उपयोग करके लोगों की मानसिकता को बदलना।
(7) सार्वजनिक जागरूकता को शुरू करना, शौचालय उपयोग को बढ़ावा देना।
(8) स्वच्छता बनाये रखने के लिए 2019 तक सभी घरों में पानी की आवश्यकता को सुनिश्चित कर गाँवों में पानी की पाइपलाइन लगवाना।
(9) ठोस और तरल अपशिष्ट की अच्छी प्रबंधन व्यवस्था ग्राम पंचायत के माध्यम से सुनिश्चित करना।
(10) सड़के, फुटपाथ और बस्तियां साफ रखना।
(11) साफ सफाई के माध्यम से जन जन में स्वच्छता के प्रति जागरूकता पैदा करना। 

स्वच्छ भारत अभियान में शामिल मंत्रालय (Swach Bharat Abhiyan Nibandh)

(1) शहरी विकास मंत्रालय
(2) राज्य सरकार
(3) ग्रामीण विकास मंत्रालय
(4) गैर सरकारी संगठन
(5) पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय
(6) सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम व निगम

उपसंहार (Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi)

महात्मा के अनुसार स्वच्छता की जागरूकता की मशाल सभी में पैदा होने चाहिए। इसके तहत स्कूलों में भी स्वच्छ भारत अभियान के कार्य होने लगे हैं। स्वच्छता से ना केवल हमारा तन साफ रहता है बल्कि हमारा मन भी साफ़ रहता है।

जहां स्वच्छता होती है, वहीँ पर ईश्वर निवास करते हैं। अतः हमें स्वच्छता की ओर ध्यान देना चाहिए। इसकी शुरुआत हमें और आपको मिलकर करनी होगी। जिससे कि हमारा पूरा देश साफ सुथरा हो जाए। स्वच्छ भारत अभियान भारत को स्वच्छ करने के लिए एक कड़ी का काम कर रहा है। लोग इसके उद्देश्य से उत्साहित होकर स्वच्छता के प्रति सचेत हो रहे हैं। यह भारत सरकार द्वारा उठाया गया एक सराहनीय कदम है।

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi

(700 शब्द)

इस देशव्यापी स्वच्छता अभियान का उद्देश्य देश भर में लोगों को स्वच्छता के लिए जागरूक करना है। ये सही मायनों में भारत की सामाजिक और आर्थिक स्थिति को बढ़ावा देने के लिये है जो हर तरफ स्वच्छता लाने से शुरु किया जा सकता है।

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi / Swachh Bharat Abhiyan Nibandh / Swachh Bharat Abhiyan in Hindi / Swachh Bharat Abhiyan Essay Hindi

प्रस्तावना (Swach Bharat Abhiyan Nibandh)

महात्मा गाँधी ने सर्वप्रथम देश को अपने आस पास की स्वच्छता बनाए रखने पर शिक्षा दी थी इसलिए भारत के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने महात्मा गाँधी की 145वीं जयंती पर 2 अक्टूबर 2004 को स्वच्छ भारत अभियान की शुरुआत की थी।

स्वच्छ भारत अभियान की आवश्यकता (Swach Bharat Abhiyan In Hindi)

अपने उद्देश्य की प्राप्ति तक भारत में इस मिशन की कार्यवाही निरंतर चलती रहनी चाहिए। भौतिक, मानसिक, सामाजिक और बौद्धिक कल्याण के लिये भारत के लोगों में इसका एहसास होना बेहद आवश्यक है। 

हमारे देश के गाँवो  के लोग आज भी खुले में शौच करने जाते हैं जिसके कारण गंदगी और बीमारियां फैलती है।स्वास्थ्य शिक्षा कार्यक्रमों के माध्यम से समुदायों और पंचायती राज संस्थानों को निरंतर साफ-सफाई के प्रति जागरुक करना।

इस गंदगी और कूड़े-करकट के जिम्मेदार भी हम और आप ही हैं, क्योंकि हम लोग भी कभी जानबूझकर और कभी अनजाने में कहीं भी कचरा फेंक देते हैं। जिसके कारण हमारे देश में हर तरफ कचरा फैल जाता है और इसके साथ ही हमारा पूरा वातावरण प्रदूषित हो जाता है। यह गंदगी और कूड़ा-करकट दिन-ब-दिन बढ़ते ही जा रहे है। 

देश के स्वच्छ होने के कारण (Swach Bharat Abhiyan In Hindi)

हमारे देश का स्वच्छ नहीं होने का सबसे पहला कारण आप और हम ही हैं क्योंकि गंदगी और कूड़ा करकट मनुष्य जाति के द्वारा ही फैलाया जाता है। आप और हम कहीं भी कूड़ा करकट फेंक देते हैं और उसका दोष हम दूसरों को देते हैं।

हमारे देश के स्वच्छ और साफ सुथरा नहीं होने के और भी कई कारण हैं जिनमें से कुछ प्रमुख कारण निम्नलिखित हैं –

हमारा देश शिक्षा के क्षेत्र में बहुत पिछड़ा हुआ है। अगर लोग शिक्षित नहीं होंगे तो उन्हें पता ही नहीं होगा कि वे अनजाने में अपने आसपास के वातावरण को प्रदूषित कर रहे हैं, और वातावरण के प्रदूषित होने के कारण उनको क्या नुकसान हो रहा है। लोगों में स्वच्छ और साफ सुथरे भारत के लिए शिक्षा का प्रचार प्रसार बहुत जरूरी है।
कुछ लोग ये मानते हैं कि हमारे थोड़ा सा कचरा फैलाने से देश गंदा थोड़ी ना होगा। इस प्रकार की मानसिकता वाले लोग हर जगह कचरा फैलाते रहते हैं।

हमारे देश में कचरा बहुत बड़ी समस्या है, 2017 के आंकड़ों के अनुसार भारत प्रति दिन 1,00,000 मीट्रिक टन कचरा उत्पन्न करता है। हमारे देश में छोटे बड़े मिलाकर बहुत सारे उद्योग धंधे हैं, जिनसे अलग-अलग प्रकार का बहुत बड़ी मात्रा में अपशिष्ट पदार्थ निकलता है, जिसे साधारण शब्दों में हम गंदगी का भंडार कर सकते हैं। उद्योग-धंधों से निकले अपशिष्ट पदार्थ नदी नालों में बहने से जल प्रदुषण फैलता है।

देश को स्वच्छ रखने के उपाय (Swach Bharat Abhiyan In Hindi)

लोगों में साफ सफाई रखने के प्रति जागरूकता फैलानी होगी।
लोगों को गंदगी के गंभीर परिणामों के बारे में बताना होगा, जिससे की उनको पता चले कि उनके गंदगी फैलाने से उनके साथ-साथ पूरे वातावरण को कितना नुकसान होता है।

हमें बढ़ती हुई जनसंख्या को कम करना होगा।
हमें कचरे के निस्तारण की सही विधि का पता लगाकर उस को अमल में लाना होगा जैसे कि पहाड़ जैसे कचरे के ढेरों को हटाया जा सके।
हमें उद्योग धंधे चलाने वाले लोगों में जागरूकता फैलाने होगी कि उनके छोटे से स्वार्थ के कारण हमारा पूरा वातावरण कितना प्रदूषित हो रहा है

स्वच्छ भारत अभियान के लिए प्रचार-प्रसार (Swach Bharat Abhiyan Nibandh)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रचार-प्रसार के लिए कुछ प्रभावी व्यक्तियों को चुना था। उन लोगों के नाम इस प्रकार हैं-
(1) सचिन तेंडुलकर (क्रिकेटर)
(2) महेन्द्र सिंह धोनी (क्रिकेटर)
(3) विराट कोहली (क्रिकेटर)
(4) बाबा रामदेव
(5) सलमान खान (अभिनेता)
(6) शशि थरूर (संसद के सदस्य)

(7) तारक मेहता का उल्टा चश्मा (टीम)
(8) मृदुला सिन्हा (लेखिका)
(9) कमल हसन (अभिनेता)
(10) अनिल अंबानी (उद्योगपति)
(11) प्रियंका चोपड़ा (अभिनेत्री)
(12) ईआर दिलकेश्वर कुमार

उपसंहार (Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi)

स्वच्छ भारत अभियान से हमारा आने वाला कल बहुत ही सुंदर एवं अकल्पनीय होगा। अगर आप और हम मिलकर स्वच्छ भारत अभियान के लक्ष्य को पूरा करने में लग जाए तो वह दिन दूर नहीं जब हमारा पूरा देश, विदेशों की तरह पूरी तरह से साफ सुथरा दिखाई देगा।

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi

(500 शब्द)

जहां स्वच्छता होती है, वहीँ पर ईश्वर निवास करते हैं। अतः हमें स्वच्छता की ओर ध्यान देना चाहिए। इसकी शुरुआत हमें और आपको मिलकर करनी होगी। जिससे कि हमारा पूरा देश साफ सुथरा हो जाए।

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi / Swachh Bharat Abhiyan Nibandh / Swachh Bharat Abhiyan in Hindi / Swachh Bharat Abhiyan Essay Hindi

प्रस्तावना (Swach Bharat Abhiyan Nibandh)

स्वच्छ भारत अभियान भारत को स्वच्छ करने के लिए एक कड़ी का काम कर रहा है। लोग इसके उद्देश्य से उत्साहित होकर स्वच्छता के प्रति सचेत हो रहे हैं। यह भारत सरकार द्वारा उठाया गया एक सराहनीय कदम है।

शहरी क्षेत्रों में स्वच्छ भारत अभियान (Swach Bharat Abhiyan In Hindi)

स्वच्छ भारत अभियान में शहरों को साफ सुथरा रखने के लिए एक अलग से योजना बनाई गई है।

(1) शहरी क्षेत्रों में स्वच्छ भारत मिशन का लक्ष्य हर नगर में ठोस कचरा प्रबंधन सहित लगभग सभी 1।04 करोड़ घरों को 2।6 लाख सार्वजनिक शौचालय, 2।5 लाख सामुदायिक शौचालय उपलब्ध कराना है।
(2) जहां पर सार्वजनिक शौचालय बनाना संभव नहीं है वहां पर सामुदायिक शौचालय बनवाए जाएंगे।
(3) शहरों के प्रमुख स्थान जैसे कि सार्वजनिक अस्पताल, बस स्टैंड, बैंक, पोस्ट ऑफिस, रेलवे स्टेशन, मुख्य बाजार, सरकारी कार्यालयों आदि के पास सार्वजनिक शौचालय बनाए जाएंगे।
(5) हमारे देश में ठोस अपशिष्ट पदार्थ का कचरा बहुत ज्यादा उत्पन्न होता है उसके स्थाई समाधान के लिए 7,366 करोड़ लगाए जाएंगे।(i) शहरी क्षेत्रों में खुले शौच की रोकथाम।
(iii) ठोस अपशिष्ट का प्रबंधन करना।
(v) फैक्ट्रियों के अपशिष्ट कूड़े-करकट पर नियंत्रण के उपाय करना।

ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छ भारत अभियान (Swach Bharat Abhiyan In Hindi)

आपने देखा होगा कि जितनी तेजी से हमारे शहरों का विकास हुआ है, ग्रामीण क्षेत्र उतना ही पिछड़ा हुआ है हालांकि सरकार ने ग्रामीण क्षेत्रों को भी सुख सुविधा पूर्ण बनाने के लिए बहुत प्रयास किए हैं लेकिन उन योजनाओं का पूरा लाभ ग्रामीण क्षेत्रों में देखने को नहीं मिला है।

इसलिए सरकार ने स्वच्छ भारत अभियान के अंतर्गत ग्रामीण क्षेत्रों को भी शामिल किया है।

(1) ग्रामीण इलाकों में कचरे के प्रबंधन के लिए ग्रामीण लोगों को कचरे से खाद कैसे बनाई जाए इसके बारे में बताया जाएगा और इस कचरे से बनी खाद के क्या लाभ हैं यह भी बताया जाएगा ताकि लोग अपने खेतों में इस तरह की खाद का उपयोग करें।
(2) इस अभियान के तहत है ग्रामीण इलाकों के प्रत्येक घर में शौचालय बनवाने के लिए प्रत्येक घर पर 10000 रुपए आवंटित किए गए थे। लेकिन इन सालों में महंगाई बढ़ने के कारण यह राशि 10000 से बढ़ाकर 12000 रुपए कर दी गई है। (3) ग्रामीण इलाकों को खुला शौच मुक्त करना।
(4) ग्रामीण इलाकों के प्रत्येक घर में शौचालय का निर्माण करवाना।
(5) कूड़े-करकट और कचरे को उपयोगी बनाकर उसे खाद का निर्माण करना।
(6) गंदे पानी के निकास के लिए नालियां बनवाना।
(7) ग्रामीण इलाकों के सार्वजनिक स्थलों पर कचरा पात्र का निर्माण करवाना।
(8) लोगों में स्वच्छता के प्रति चेतना जगाना।

स्वच्छ भारत स्वच्छ विद्यालय अभियान (Swach Bharat Abhiyan Nibandh)

25 सितंबर, 2014 से 31 अक्टूबर 2014 के बीच मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अंतर्गत स्वच्छ भारत-स्वच्छ विद्यालय अभियान केंद्रीय विद्यालयों और नवोदय विद्यालय में आयोजन कराया गया था। इस अभियान के अंतर्गत शिक्षकों और विद्यार्थियों को अपने विद्यालय में साफ सफाई रखनी थी।

इसके अंतर्गत विभिन्न विद्यालयों में विभिन्न प्रकार की गतिविधियां की गई जिनमें से कुछ इस प्रकार हैं –

(1) स्कूल कक्षाओं के दौरान प्रतिदिन बच्चों के साथ सफाई और स्वच्छता के विभिन्न पहलुओं पर विशेष रूप से महात्मा गांधी की स्वच्छता और अच्छे स्वास्थ्य से जुड़ीं शिक्षाओं के संबंध में बात करें।
(2) रसोई और सामान ग्रह की सफाई करना।
(3) खेल के मैदान की सफाई करना।
(4) प्रतियोगिताओं का आयोजन करें। जैसे :- निबंध प्रतियोगिता, वाद-विवाद प्रतियोगिता, चित्रकला , सफाई और स्वच्छता।
(5) पाठशाला के हर एक कक्षा में कचरा पात्र रखना चाहिए।

उपसंहार (Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi)

एक स्वस्थ्य देश और स्वस्थ्य समाज को जरुरत है कि उसके नागरिक स्वस्थ्य रहें तथा हर व्यवसाय में स्वच्छ हो। और इस नेक काम के लिए हम सब को मिल कर आगे आना होगा और साथ-साथ काम कर के इस मिशन को पूरा करना होगा।


Home » Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi (2 Oct): स्वच्छ भारत अभियान निबंध

Swachh Bharat Abhiyan Essay in Hindi (2 Oct): स्वच्छ भारत अभियान निबंध